मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था

मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था 

मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था

मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था 



कर नहीं सकता कोई मेरी बराबरी 
मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था 
हो जाती थी मुझे देर बहुत 
पर इस आदत को ना बदल पाया करता था 
वो भी आ जाती थी किसी बहाने मीनार पे अपनी 
उसे देख कर मैं सब भूल जाया करता था 
मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था 
शायद आ जाती थी उसे आहट मेरी 
मैं भी उसे निहार कर वापस चला जाया करता था  
मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था 


*********************************************************************************


कविता किसी लगी अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं 
हिमांशु उपाध्याय 
Facebook         -    https://www.facebook.com/Himanshu8444
Twitter             -    https://twitter.com/himanshu8444
Whatsapp         -   +918858784005


मैं अपना चाँद देखने उसकी गली जाया करता था

2 Comments

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

Thanks for Comment.